मुंह सड़ने और मुहं में छाले के इलाज घरेलू तरीकों से (muh ke chalon ka gharelu ilaj)

 मुंह सड़ने और मुहं में छाले के इलाज घरेलू तरीकों से (muh ke chalon ka gharelu ilaj)

मुंह में छाले के इलाज घरेलू तरीकों से (muh ke chalon ka gharelu ilaj), छालों के प्रकार, छाले का परमानेंट इलाज,

इस पोस्ट में हम बात करेंगे मुंह में छाले के इलाज घरेलू तरीकों से (muh ke chalon ka gharelu ilaj), छालों के प्रकार, छाले का परमानेंट इलाज, के बारे में।

  अगर किसी इंसान को मुंह के छाले हो जाते हैं तो उसका जीना हराम हो जाता है ऐसे में खाना तो दूर पानी पीना भी बहुत मुश्किल होता है। क्योंकि कुछ लोगों को इतने छाले हो जाते हैं कि वह बोल भी नहीं सकते हैं। अगर आप भी मुंह के छालों से परेशान हैं तो इसका इलाज आप अपने घर पर ही कर सकते हैं।

   मुंह के छाले गालों के अंदर और जीभ पर अधिकतर होते हैं। मुंह के छाले होने का मुख्य कारण गलत खानपान, कब्ज, मुहं की गंदगी, गुटखा, पान और मसालों का ज्यादा सेवन करना, तम्बाकू का ज्यादा प्रयोग करना, गर्म चीजें ज्यादा खाना, पेट में एसिडिटी गैस ज्यादा बनना, तलि भुनी चीजें ज्यादा प्रयोग करना, पानी कम पीना आदि कारणों से हो जाते हैं। मुंह में छाले होने पर यह बहुत तेज दर्द देते हैं।आयुर्वेद में मुंह में छाले होने को मुंहपाक यानी मुंह का पक जाना कहा जाता है और इसका मुख्य कारण पित्त दोष में खराबी होना माना जाता है। 

  आयुर्वेदिक उपचार से व्यक्ति के पित्त दोषों को शांत कर के छालों को ठीक किया जाता है। इसलिए इसमें ऐसी चीजों का प्रयोग किया जाता है जो कि पित्त दोषों को शांत करें और शरीर से गर्मी को बाहर निकालकर शरीर की सफाई करें।
मुंह में छाले के इलाज घरेलू तरीकों से (muh ke chalon ka gharelu ilaj), छालों के प्रकार, छाले का परमानेंट इलाज,

  ●छालों के प्रकार

मुंह के छाले मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं।

  1●} एप्थस वाले छाले :- 

यह छाले पेट की खराबी मिर्च मसालेदार भोजन तली भुनी चीजें खाने की वजह से होते हैं। यह किसी बीमारी या अन्य कारणों से नहीं होते हैं। इनको नॉन कॉन्टेजियस माउथ अल्सर भी कहा जाता है।

  2●} फीवर ब्लिस्टर्स

इनको बुखार वाले या अन्य रोगों के होने से होने वाले छाले भी कहा जाता है। यह होठों के आसपास होते हैं और इनके होने का मुख्य कारण हरपीज सिंपलेक्स वायरस होता है।

  =} छालों के घरेलू इलाज

चलिए अब हम बात करते हैं कि छालों का इलाज कैसे करें

  =} मुंह में छाले के इलाज शहद और मुलहठी

शहद पेट को ठंडक पहुंचाता है और पाचन को ठीक रखता है, वहीं मुलेठी के अंदर एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो कि खांसी और मुंह के छालों में अधिक प्रयोग किया जाता है। 
  
  मुंह के छाले होने पर एक चम्मच शहद और एक चम्मच मुलेठी का चूर्ण आपस में मिलाकर मुंह में रखें और इसकी लार को चारों तरफ घूमांए। जब लार ज्यादा हो जाए तो इसको थूक दें। इससे छाले 2 दिन में ठीक हो जाते हैं। यह प्रयोग आपको दिन भर में 4 से 5 बार करना है।

  =} अडूसा के पत्ते से मुंह में छाले के इलाज

अडूसा के पत्तों के अंदर एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। साथ ही यह मुंह को ठंडक भी प्रदान करते हैं और मुंह के अंदर मौजूद बैक्टीरिया को मारते हैं। अडूसा के पत्तों को इस्तेमाल करने के लिए अडूसा के दो- तीन पत्तों को लेकर और अच्छे से साफ करके उनको चबाएं। 

  जब इनका का रस निकले उसको निगल जाएं। इससे यह पेट में ठंडक देंगा, मुंह के छालों का दर्द कम होगा और दो से तीन दिन में छाले ठीक हो जाएंगे। यह प्रयोग दिन भर में 3 से 4 बार करना है।

  =} लौंग भी करे मुंह में छाले का इलाज

लौंग के अंदर युजेनॉल पाया जाता है। जोकि बैक्टीरिया को मारता है और ओरल हाइजीन के लिए इसका कई सारे प्रोडक्टों में इस्तेमाल भी किया जाता है। दांत के दर्द के लिए, मसूड़ों के इंफेक्शन के लिए और छालों को खत्म करने के लिए लौंग का तेल बहुत ज्यादा फायदेमंद साबित होता है।

   इससे छालों में दर्द होना, मसूड़ों में दर्द होना आदि समस्या भी ठीक हो जाती है। इसको प्रयोग करने के लिए आप एक रूई के फाहे को नारियल के तेल में भिगोकर और फिर मुंह में डालकर इसको चारों तरफ घुमायेन, फिर गर्म पानी से कुल्ला कर ले।

  यह प्रयोग आपको दिन भर में 4 से 5 बार करना है इससे मात्र 1 या 2 दिन में ही छाले ठीक हो जाते हैं। अगर आपको लौंग का तेल नहीं मिल रहा है तो तीन से चार लौंग को चबा भी सकते हैं।

  =} आंवला और संतरा से मुंह में छाले का इलाज

कई वैज्ञानिक शोधों में यह बात सामने आई है विटामिन सी की कमी के कारण भी हमको मुंह के छाले होते हैं। इसलिए जिन लोगों का पोषण सही नहीं है और जो लोग हरी साग सब्जियां और फल नहीं ले पाते हैं उनको चाहिए कि रोज सुबह खाली पेट तीन-चार चम्मच आंवले का जूस पीयें या फिर दोपहर के टाइम में एक गिलास संतरे के जूस का सेवन करें। इससे विटामिन सी की कमी पूरी होगी और आपको छाले नहीं होंगे।

  =} छाले का परमानेंट इलाज

जिन लोगों को अधिकतर छाले होते रहते हैं और जो छालों से हमेशा परेशान रहते हैं, उनको चाहिए कि वह अपने भोजन में टमाटर का इस्तेमाल ज्यादा करें। 

  टमाटर हमेशा लाल और कटे हुए टमाटर को सलाद के रूप में प्रयोग करें इससे यह पेट में ठंडक होती है, विटामिन सी और कई अन्य पोषक तत्वों की कमी पूरी होती है, शरीर की गर्मी कम होती है और कभी छाले नहीं होते।

The End-

आशा करते हैं दोस्तों मुंह में छाले के इलाज घरेलू तरीकों से (muh ke chalon ka gharelu ilaj), छालों के प्रकार, छाले का परमानेंट इलाज, के बारे में दी गई जानकारी आपके जीवन में लाभदायक साबित होगी अगर आपका इस विषय से संबंधित कोई अन्य सवाल या सुझाव हो तो हमको कमेंट करें। हम आपके सवालों का जवाब देने की कोशिश करेंगे। पोस्ट को अंत तक पढ़ने के लिए सहृदय धन्यवाद।
Next Post Previous Post
No Comment
Add Comment
comment url