कान दर्द का तुरंत इलाज जान लो वरना रोते रह जाओगे। kan me dard ho to kya kare

कान दर्द का तुरंत इलाज| kan me dard ho to kya kare

  वैसे कान दर्द देखने और सुनने मे तो बहुत छोटी समस्या लगती है मगर यह कभी कभी बड़ी समस्याओं को जन्म दे देती है। इस पोस्ट में हम कान दर्द का तुरंत इलाज और kan me dard ho to kya kare के बारे में बात करेंगे।

     हमारे कान में कई तरह की समस्याएं होती हैं, कान में दर्द होना भी उन्हीं में से एक समस्या है। आमतौर पर कान में दर्द के साथ-साथ भारीपन की समस्या भी होती है। 

      कान का दर्द एक अंतर्निहित बीमारी का लक्षण हो सकता है, जैसे कान का संक्रमण, या वे एक चेतावनी हो सकते हैं। कान में दर्द या कान में बेचैनी हमेशा कुछ अधिक गंभीर होने का संकेत नहीं होता है।

    परंतु जब कान में दर्द लंबे समय तक रहे, और कानों से मवाद भी बहे तो यह गंभीर बीमारी का संकेत होता है। ज्यादा लापरवाही करने से यह घाव या इंफेक्शन दिमाग तक पहुंच जाता है। इसलिए जब भी कानो में कोई शिकायत हो तो उसको अनदेखा न करें। बल्कि कान दर्द का तुरंत इलाज और kan me dard ho to kya kare के बारे में सोचे।

 ● कान में दर्द क्यों होता है- kan me dard kyu hota hai

कान दर्द का तुरंत इलाज| kan me dard ho to kya kare

कान में दर्द होने के कई कारण हैं जो निम्न हैं:-

 ● कान में मैल जमा होना- kan me dard ka karan wax

  कान में मैल जमा हो जाने की वजह से भी कान में दर्द होता है। जिन व्यक्तियों की स्किन तैलीय होती है उन्हें वैक्स की ज्यादा समस्या होती है। कान की गंदगी को कान से बाहर निकालने के कुछ दिन के बाद यह फिर से बन जाता है। 

   कान में वैक्स ज्यादा दिनों तक रहने से यह सूख जाता है और फिर कान की नली को बन्द कर देता है। इसकी वजह से  कान में दर्द होने शुरू हो जाते हैं और सुनाई भी कम देने लगता है ।

 ● पर्दा चोटिल होने से कान दर्द होना- chot kan me dard ka karan

  कान के अंदर का पर्दा बहुत सेंसिटिव होता है जिस वजह से इसके ऊपर हल्का सा भी दबाव या खरोंच लगने पर यह चोटिल हो जाती है और फिर इसमें दर्द होने लगता है। साथ ही साथ इससे मवाद भी बनने लगता है। 

 कान में  ज्यादा दिन तक इंफेक्शन और मवाद रहने की वजह से कान के आस पास की हड्डियों गलने लगती हैं जिसकी वजह से आगे चलकर बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता हैं। कान दर्द इन्ही में से एक है।

 ● यूस्टेकियन ट्यूब बन्द होने से कान दर्द- kan me dard ka karan

हमारा कान एक नाली के जरिए हमारे नाक के पिछले और गले के ऊपरी हिस्से से जुड़ा रहता है और जब हमको टॉन्सिल या साइनस होता है तो कान के भीतर भी दर्द महसूस होता है। 

 कान में सूजन आने के कारण ये यूस्टेकियन ट्यूब बंद हो जाती है और फिर इसमें से मवाद आने लगता जिस वजह से कान दर्द करने लगता है।

● ओटाइटिस मीडिया के कारण कान दर्द- kan me dard ka karan

 ये अधिकतर कान के मध्य में होने वाला इंफेक्शन है जो ज्यादातर बच्चों में होता है।  डब्ल्यूएचओ के मुताबिक अगर इंफेक्शन दो हफ्ते से ज्यादा समय तक रुक जाता है तो उसे क्रॉनिक इंफेक्शन माना जाता है। 

   यह सर्दी , फ्लू का वायरस तथा धूल की एलर्जी से इंफेक्शन हो सकता है साथ ही इसमें तेज बुखार, कान में दर्द और सुनने में परेशानी होना और कान से मवाद की शिकायत भी होती है।

इसे भी पढ़ें- कब्ज का परमानेंट इलाज

कान दर्द का तुरंत इलाज| kan me dard ho to kya kare

● ईयर बैरोट्रॉमा के कारण कान दर्द- kan me dard ka karan

 पानी या हवा के बाहरी दबाव की वजह से भी कान के अंदर वाला भाग जख्मी हो जाता है।
     ईयर बैरोट्रॉमा अधिकतर स्काई डाइविंग स्कूबा डाइविंग और प्लेन के उड़ने के समय ज्यादा महसूस होता है। बैरोट्रॉमा अधिकतर गर्दन में सूजन, सांस में इंफेक्शन और एलर्जी की वजह से ज्यादा होता है।

 ●} कान दर्द के लक्षण- kan dard ke lakshan

कान में दर्द का सबसे बड़ा लक्षण खुद कान का दर्द ही है। इसके अलावा आप अन्य दूसरे भी लक्षण महसूस कर सकते हैं। जैसे :-

  • कान में भारी दर्द के साथ भारीपन
  • सनसनाहट महसूस होना,
  • बेचैनी और घबराहट,
  • कम सुनाई देना,
  • कान से डिस्चार्ज होना,
  • जी मिचलाना आदि। लक्षण देखने को मिलता है

 ●} कान दर्द से बचने के उपाय-kan dard se kaise bache

1 कोल्ड ड्रिंक्स से बचें,
2 फास्ट फूड्स का सेवन न करें,
3 सिगरेट और शराब का सेवन न करें,
4 तेज या नुकीली चीज से कान की सफाई न करें,
5 लंबे समय तक हेडफोन का इस्तेमाल न करें,
6 तेज ध्वनि से बचें,
7 नहाते समय ध्यान रखें कि कान में पानी या शैम्पू न जाए,

 ● कान दर्द होने पर क्या करें-kan me dard ho to kya kare

  कान में दर्द होने पर लोगों को बहुत तेज से पीड़ा होती है ऐसे उनके समझ में नहीं आता है कि क्या करें बहुत सारे लोग कान दर्द को पेरासिटामोल और पेनकिलर्स दवाई जैसे dolo वगैरह खाकर शांत करते हैं। 

     परंतु यह कोई इसका परमानेंट इलाज नहीं है। कानों में दर्द होने पर ना तो कानों में ज्यादा छेड़खानी करें और ना ही ज्यादा ओवरडोज पैंकिलर्स लें।
 अगर कानों में ज्यादा दर्द है और लंबे समय से दर्द है तो तुरंत किसी डॉक्टर को दिखाकर टेस्ट कराएं। यहाँ हम कुछ घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज बता रहे हैं इनको अपनाने आपको इससे कुछ ही दिनों में बहुत अच्छा फायदा होगा।

 ●●} कान दर्द के घरेलू उपाय 

कान दर्द का तुरंत इलाज| kan me dard ho to kya kare

  =)) 
कान दर्द का तुरंत इलाज- kan me dard ho to kya kare

 ● लहसुन से कान दर्द का तुरंत इलाज- kan dard ka ilaj

2 या 3 लहसुन की कलियों को बारीक काट लें। इसको सरसों के तेल के साथ अच्छे से गरम करें फिर इस तेल को ठण्डा कर के छान ले।

   अब जब भी आपको कान में दर्द हो तो इस तेल की 2 से 3 बूँद कान में डाल लें इससे तुरन्त आराम मिलता है और कान का कचरा भी ढीला हो जाता है। जिससे इसकी सफाई करने में आसानी होती है।

 ● कान दर्द का तुरंत इलाज प्याज का रस- kan dard ka ilaj pyaj

एक चम्मच प्याज का रस लें इसको हल्के आंच गुनगुना पर गर्म कर लें। फिर इसे 2 या 3 बूँद कान में डाल लें इससे भी कान दर्द में बहुत आराम मिलता है। 
 जब कान में ज्यादा दर्द हो तो दिन भर में 2-3 बार इसको कान में डालें।

 ● अदरक के रस से कान दर्द का तुरंत इलाज- kan dard ka turant ilaj adrak

अदरक का रस निकाल कर कान में 2-3 बूँद डालें। इससे कान का इन्फेक्शन सही होता है और कान दर्द में भी आराम मिलता है। इसका दोगुना फायदा लेने के लिए सबसे पहले अदरक को पीस कर अदरक का रस जैतून के तेल में मिला लें। अब इस तेल की 2-3 बूँद कान में डालें इससे कान के दर्द में तुरन्त आराम मिलेगा।

 ● कान दर्द का घरेलू उपाय ऑलिव ऑयल- kan dard ka ilaj

जैतून के तेल को हल्का गुनगुना गरम करके इसको कान में 3 या 4 बूँद डालें इससे भी कान दर्द में बहुत आराम मिलता है।

 ●  तुलसी से कान दर्द का तुरंत इलाज- tulsi se kan dard ka ilaj

तुलसी की पत्तियों का ताजा रस निकाल कर 3 बून्द कान में डालने से 1से 2 दिन में ही कान का दर्द समाप्त हो जाता है। और 1 सप्ताह इस्तेमाल करने से कान के इंफेक्शन से भी छुटकारा मिल जाता है।

कान दर्द का तुरंत इलाज| kan me dard ho to kya kare

 ●  कान में भारीपन और दर्द का इलाज आम के पत्तों का रस- kan bharipan और dard ka ilaj

आम के नए और ताजे पत्तों को पीसकर उनका रस निकाल लें ध्यान रहे पत्तो को कोई कीड़ा मकोड़ा न खाए हो। 

  इन पत्तों का रस निकालने के बाद इसको किसी ड्रॉपर की सहायता से 3-4 बूँद अपने कान में डाल लें और बाहर से साफ़ रुई से कान को बंद कर लें। इससे कान का दर्द सही होगा।

 ●  नीम- kan dard ka ilaj neem

ताजी और नई नीम की पत्तियों का रस निकाल कर इसको 2 से 3 बूँद कान में डालने से कान का इन्फेक्शन और दर्द से आराम मिलता है।साथ ही साथ यह पुराने कान के रोगियों में भी बहुत फायदा करता है।

FAQ-

 ● कान में झींगुर जैसी आवाज आना kan me jhingur jaisi awaj ana

कान में सनसनहट या झींगुर जैसी आवाज आना एक आम समस्या है। ऐसा अधिकतर नींद की कमी, चिड़चिड़ापन, दुख या मस्तिष्क में किसी समस्या अथवा कान में कचरा होने की वजह से होता है। कान में झींगुर जैसी आवाज आना या सनसनाहट होना एक लक्षण है ना की कोई रोग। 

   इसलिए जब कानों में सनसनाहट हो या झींगुर जैसी आवाज आए और यह समस्या लंबे समय तक बनी रहे तो किसी अच्छे डॉक्टर को मिलकर उसके इलाज के बारे में सोचें। आमतौर पर कान में सनसनाहट और चिकू जैसी आवाज आने की समस्या कुछ देर में या कुछ घंटा या दोनों में ठीक हो जाती है।

 ● कान का मैल कैसे निकाले- kan ka mail kaise nikalen

कान की मेल यानी खोंट। यह सभी के कान में नॉर्मल निकलती रहती है और यह बैक्टीरिया तथा फंगस से हमारे कानों की रक्षा करती है।
       परंतु जब यहां मैल ज्यादा हो जाती है तो हमको सुनाई कम देता है। कान का मैल यानी खोंट निकालने का सबसे आसान तरीका है बेकिंग सोडा।

  इसका उपयोग करने के लिए आधा चम्मच बेकिंग सोडा को 50 ग्राम पानी में डालकर अच्छी तरीके से मिला ले फिर उसके बाद इसकी तीन से चार बूंद अपने कान में डालकर आधे घंटे के लिए छोड़ दें।

    इससे कान की मैल आसानी से ऊपर चली आएगी और फिर इसको किसी इयरबड्स या कॉटन से अच्छी तरीके से साफ कर ले। इसके अलावा कई डॉक्टर लोग हाइड्रोजन पराक्साइड का भी इस्तेमाल कान की सफाई के लिए करते हैं।

  मगर कान के सफाई करते समय यह ध्यान रहे की एक बार में ही पूरा मैल निकाल ले। वर्ना कान की मैल लिक्विड को सोख के अंदर ही अंदर फूल जाएगी फिर यह कान में बहुत दर्द करेगा।
कान दर्द का तुरंत इलाज| kan me dard ho to kya kare

 ● छोटे बच्चे के कान में दर्द हो तो क्या करें- bacho ke kan dard ka ilaj

छोटे बच्चों के कान में दर्द हो और कानों के आसपास लालिमा आ गई हो तो उस जगह पर किसी पॉलिथीन में बर्फ रखकर उसकी सिकाई करें इससे वहां का दर्द कम होता है।

       इसके अलावा आप चाहे तो तुलसी के पत्तों का रस दो-तीन बूंद भी डाल सकती हैं इससे उसके दर्द में काफी आराम मिलेगा और अगर कोई इंफेक्शन हो तो वह भी ठीक हो जाएगा। इसके अलावा लहसुन की कलियों का रस या सरसों का तेल भी डालकर ट्राई कर सकती हैं।

 ● कान में भारीपन या कुछ हवा जैसा भरा महसूस होना-kan me bharipan lagna

    कान में भारीपन अधिकतर कानों का इन्फेक्शन डायबिटीज या हाइपरटेंशन की वजह से होता है। इसके अलावा कान में चोट लग जाना या कान की मेल फूल जाना या कान में पानी चले जाने के कारण भी कान में भारीपन महसूस होता है।

     ऐसे में हमने जो पहले उपाय बताए हैं वह सब प्रयोग करें। अगर आपके कान में भारीपन अधिक दिनों से है तो अपने कान की जांच जरुर करें।

 ● विशेष- 

     कान के दर्द में कोई भी दवाई प्रयोग करने से पहले सबसे पहले कानों की सफाई करें। उसके बाद ही कोई ड्राप या इंफेक्शन को कम करने वाली दवाई कानों में डालें। वरना यह ज्यादा फायदा नहीं करेंगे। 

     कानों की सफाई करने के लिए एक बार में ही पूरे कानों की अच्छी तरीके से सफाई कर ले। वरना कानों में जमा मैल तरल को सोख कर कान के अंदर फूल जाएगा, जिस वजह से कान में दर्द और ज्यादा बढ़ जाएगा और कचरा उसी के अंदर फस जाएगा।

THE END-

आशा करते हैं दोस्तों कि यह पोस्ट कान दर्द का तुरंत इलाज| kan me dard ho to kya kare के बारे में दी गई जानकारी आपके स्वास्थ्य जीवन के लिए कारगर साबित होगी। पोस्ट को अंत तक पढ़ने के लिए आपका तहे दिल से धन्यवाद। अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट जरुर करें। हम आपके सवालों का उत्तर देने की पूरी कोशिश करेंगे। 

Next Post Previous Post
No Comment
Add Comment
comment url