हस्तमैथुन करने से बॉडी में क्या बदलाव और नुकसान होते हैं हस्तमैथुन का इलाज। (hastmaithun ke nuksan ka ilaj)

  हस्तमैथुन का इलाज (hastmaithun ke nuksan ka ilaj)

हस्तमैथुन का इलाज (hastmaithun ke nuksan ka ilaj)

हस्तमैथुन किशोरों और युवाओं के लिए बहुत सरदर्दी का सब्जेक्ट बन चुका है। अतः आज हम हस्तमैथुन का इलाज (hastmaithun ke nuksan ka ilaj) के बारे में चर्चा करेंगे।

 ● हस्तमैथुन करने से क्या होता है (hastmaithun karne se nuksan ya fayda)

 उनको समझ ही नही आता कि क्या ये सही है या गलत। हमारे समाज मे हस्तमैथुन करना संस्कारों पर आघात और प्रहार करना माना जाता है। अगर कभी इसके बारे में कोई बात की जाए या इस समस्या के समाधान के बारे में किसी से पूछा जाए तो लोग इसका मजाक उड़ाने लगते हैं या फिर इससे मुंह चुराने लगते हैं, जो कि बिल्कुल गलत बात है। 

   हमारे पुराने समय के ऋषि मुनि इसको रोकने के लिए कई बड़े-बड़े जतन करते थे और मानते थे कि हस्तमैथुन तथा स्त्रियों के प्रति आकर्षण बहुत गलत है। क्योंकि इससे उनका लक्ष्य और मन भटक जाता है। मगर यह सब पहले की बात है।अगर किसी का मन पहले से ही चंचल और अस्थिर है तो वह कभी भी किसी भी लकड़ी पर भटक जाएगा। 

   दुनिया में आप कहां-कहां भागते फिरेंगे कि आपको महिला ना मिले। इस दुनिया में 50% स्त्रियां है तो उनसे नजर चुराने की बजाय उनको स्वीकार करके आगे बढें। हर चीज और हर समस्या की अपनी एक जगह है उसको एक्सेप्ट करें समाधान खोजें और आगे बढें। 

 ● हस्तमैथुन की भ्रांतियां hastmaithun (karne se nuksan ya fayda confusion)

   हमारे घर और समाज में बचपन में सेक्स की गतिविधियां करना और उनके बारे में सवाल करना बहुत गलत माना जाता था, और हस्तमैथुन को लेकर हमारे समाज में तो बहुत गलत धारणाएं हैं, हस्तमैथुन को पाप माना जाता था।

    अगर आप बचपन में गलती से भी अपने यौनांगों छू लेते थे तो घरवाले इसको गलत बताते थे मगर उस समय कई लोगों की समझ में ही नहीं आता की आखिर क्यों।

   एक सामान्य मानव के लिए सेक्स उतना ही जरूरी है जितना कि खाना और पानी। परंतु हमको हमेशा इससे मुह चुराने को कहा गया है और इसको एक्सेप्ट नहीं किया गया है। कई बार तो हमारे अंदर ऐसा डर भर दिया जाता है कि हम इसको करना तो दूर इसके बारे में सोचने से भी डरते हैं। 

     मगर क्या करें इंसान का मन है इधर-उधर भटकते ही रहता है हर कोई नहीं समझा सकता। दुनिया मे हर कोई हस्तमैथुन करता है बस फर्क इतना है कि कोई कम तो कोई ज्यादा करता है।

हस्तमैथुन का इलाज (hastmaithun ke nuksan ka ilaj)

 ● हस्तमैथुन करने से क्या होता है (hastmaithun karne se kya hota hai)

जब कोई हस्तमैथुन करता है तो इससे वह उत्तेजित हो जाता है और अंत में उसको आनंद की प्राप्ति होती है ठीक वैसे ही जैसा कि एक स्त्री से संभोग करने पर मिलता है। 

  परंतु हस्तमैथुन कोई वास्तविक संभोग नहीं है हस्तमैथुन बस अपने आप को खुश करने का एक स्वरचित मध्यम है जबकि वास्तविक संभोग में 2 इंसानों का होना जरूरी होता है। और इसमें दोनों को आनंद बराबर मिलता है।
 
   कई लोगों का मानना है कि हस्तमैथुन पाप है इससे शारीरिक दुर्बलता हो जाती है और आदमी नपुंसक हो जाता है साथ ही साथ इससे है आपके बच्चे पैदा नहीं होते हैं। तरह-तरह की कई सारी बातें लोग बताते हैं मगर यह सब बातें सही नहीं है।

 अगर ऐसा सही होता तो तो आज दुनिया की आबादी नहीं बढ़ रही होती। हस्तमैथुन इतना हानिकारक नहीं है जितना कि लोगों को बताया जाता है।

    हस्तमैथुन से मानसिक परेशानियां जरूर हो जाती है वह भी तब जब इंसान इसी के बारे में सोचता रहता है और यह सोचता है इसको करने से मेरे शरीर में कमजोरी या ऐसी कुछ परेशानी हो गई है। और दूसरी बात यह कि अति हर चीज की बुरी होती है चाहे वह हस्तमैथुन हो या कोई और चीज। 

● हस्तमैथुन कैसे छोड़े(hastmaithun Kaise chode)

  समय-समय पर सब चीज अच्छी लगती है अगर बचपन में अपने हस्तमैथुन किया है तो इसका मतलब यह नही की आप नामर्द या कमजोर हो हो गए हैं या आप गलत है। इसका मतलब है कि आप नॉर्मल है आपके अंदर भी सेक्स इच्छाएं हैं।

   बचपन में यौनंगों को छूने पर एक अलग ही फील होता है। इसका मतलब यह नहीं है कि कुछ गलत हो रहा है इसका मतलब यह है कि सब कुछ नॉर्मल है। तो हम बात कर रहे थे हस्तमैथुन के इलाज की। हस्तमैथुन का सही इलाज यह है कि हस्तमैथुन को ज्यादा से ज्यादा कम करें।
 
 अपने दिमाग से इस बात को निकालें की हस्तमैथुन करने से आपके शरीर में कमजोरी आ गई है।आप ये मानना छोड़ दीजिए कि हस्तमैथुन की वजह से आपको कोई परेशानी हो सकती है, और दूसरी बात ये है कि हस्तमैथुन की वजह से वीर्य थोड़ा पतला और कम हो जाता है।

  आप इसको कंट्रोल करके फिर से पहले की तरह वीर्यवान और ताकतवर बन सकते हैं। बस आपको मन से मजबूत होना पड़ेगा। चलिए अब आगे बात करते हैं वीर्य को बढ़ाने वाले और आप को ताकत देने वाले आयुर्वेदिक दवाइयों के बारे में।

  ● हस्तमैथुन के नुकसान का इलाज (hastmaithun ke nuksan ka ilaj)

हस्तमैथुन का इलाज (hastmaithun ke nuksan ka ilaj)


दोस्तों यहां तक बात हो गई हस्तमैथुन से क्या-क्या परेशानियां होती हैं और यह करना सही है या गलत। अब हम बात करेंगे हस्तमैथुन के नुकसान का इलाज (hastmaithun ke nuksan ka ilaj) के बारे में।

  ● हस्तमैथुन का इलाज गोखरू (hastmaithun ke nuksan ka ilaj)

   छोटा गोखरू या बड़ा गोखरू जो भी मिले उसका 100 ग्राम चूर्ण ले ले फिर इसमें 100 ग्राम तिल का चूर्ण मिला ले और इसको किसी डब्बे में अच्छे से रख ले।रोज सुबह शाम नाश्ता और खाना खाने के बाद 5 या 7 ग्राम चूर्ण को एक गिलास दूध में मिलाएं फिर उसमें एक चम्मच मिश्री मिलाकर अच्छे से घोलकर पी जाएं।

     ध्यान रखें यह प्रयोग करते समय खटाई है और मिर्च मसालेदार चीजों का सेवन ना करें। इस नुश्खे को प्रयोग करने से शरीर के अंदर जोश बढ़ेगा वीर्य की पूर्ति होगी और ताकत बढ़ेगी।।

 ● हस्तमैथुन का इलाज बेलपत्र (hastmaithun ke nuksan ka ilaj)

    बेलपत्र यानी की बेल के पेड़ का पत्ता ये शिव जी के शिवलिंग पर चढ़ाया जाता है। यह पुरुषों की कामेच्छा को काबू करता है जिससे कि ज्यादा हस्तमैथुन करने का मन नहीं करता है। बेलपत्र को प्रयोग करने के लिए 50 से 60 पत्तों को अच्छे से कूच ले और इसका रस निकाल लें। 

  कम से कम 10 या 20 ग्राम रस निकालकर सुबह और शाम पिएं इससे आपकी सेक्स की इच्छा कंट्रोल में रहती है और हस्तमैथुन की ओर से ध्यान हट जाता है। 

   मगर यह ध्यान रखें कि इस प्रयोग को ज्यादा ना करें 10 दिन करने के बाद इस प्रयोग को छोड़ दे। फिर जब दोबारा आपका मन ना माने और सेक्स की इच्छा भड़कने लगे तो चार-पांच दिन के बाद फिर प्रयोग 5 दिन करके छोड़ दे।

हस्तमैथुन का इलाज (hastmaithun ke nuksan ka ilaj)

● हस्तमैथुन का इलाज आंवला (hastmaithun ke nuksan ka ilaj)

आंवला वीर्य की गर्मी को दूर करता है, शरीर को मजबूत करता है, खून बढ़ाता है और हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है। आंवला हस्तमैथुन को कंट्रोल करने का भी काम करता है। साथ ही साथ यह शरीर को मजबूती भी प्रदान करता है।

    आयुर्वेद में लिखा है कि अगर कोई व्यक्ति आंवले के पेड़ के नीचे सोता है और आंवले का सेवन करता है तो वह 100 वर्षों तक तक जीवित रहेगा, उसकी हड्डियां कमजोर नहीं रहेंगे और उसका वीर्य कभी पतला नहीं होगा।
     
 आंवले का प्रयोग करने के लिए 100 ग्राम आंवले का चूर्ण और 20 ग्राम हल्दी इन दोनों को आपस में मिलाकर इसमें 50 ग्राम घी डालें और इसको अच्छी तरीके से किसी कड़ाही में भुजें। 

   फिर इसमें 50 ग्राम पिसी मिश्री डालें और इसको अच्छी तरीके से पकाकर किसी एयरटाइट सीसी में बंद करके रख दे। इसको एक चम्मच खाकर सुबह शाम गाय का दूध पीने इससे आप का वीर्य बढ़ता है वीर्य की गर्मी शांत होती है। साथ ही इससे धात गाढ़ा होता है और आपके शरीर की कमजोरी हमेशा के लिए खत्म हो जाती है।।

 ● हस्तमैथुन का इलाज अश्वगंधा (hastmaithun ke nuksan ka ilaj)

     अश्वगंधा एक ऐसी औषधि है जो व्यक्ति के वीर्य को बढ़ाने के साथ-साथ मानसिक तनाव से भी मुक्ति दिलाता है। अश्वगंधा एक वाजीकारक औषधि के रूप में पुरुषों में प्रयोग किया जाता है। अश्वगंधा का नाम अश्व से लिया जाता है क्योंकि इसको खाने के बाद एक पुरुष के अंदर अश्व यानी घोड़े जैसी ताकत आ जाती है।

  इसलिए अगर आप हस्तमैथुन करते हैं और आपको बहुत कमजोरी आ गई है तो आप रोज सुबह शाम सादा नाश्ता या सादा खाना लेने के बाद एक गिलास गाय के नॉर्मल गरम दूध में एक चम्मच अश्वगंधा का चूर्ण तीन एक चम्मच और शहद तीन चम्मच मिलकर इसका सेवन करें।

   20 से 30 दिन इसका सेवन करने से और ब्रह्मचर्य का पालन करने से हस्तमैथुन से आई कमजोरी ठीक हो जाएगी आपका वीर्य बढ़ जाएगा और पहले जैसा जोश और जुनून फिर आ जाएगा।

The End

आशा करते हैं दोस्तो की हस्तमैथुन का इलाज (hastmaithun ke nuksan ka ilaj) के बारे में दी गई जानकारी आपके जीवन मे सार्थक साबित होगी। अगर फिर भी कोई सवाल या सुझाव हो तो हमे कमेंट करें। गुप्त रोग से संबंधीत पोस्ट हमारी वेबसाइट पर और भी उपलब्ध हैं उनको भी पढ़े और अपनी समस्याओं का समाधान करें।

Next Post Previous Post
No Comment
Add Comment
comment url